For the best experience, open
https://m.apnnews.in
on your mobile browser.
Advertisement

एक ही दिन में शख्स हुआ करोड़पति, डेढ़ लाख के फूलदान को 74 करोड़ में बेचा

Chinese Vase: जब भी कभी किसी ऐतिहासिक सामान की निलामी होती है तो उसकी कीमत काफी ज्यादा होती है।
01:40 PM Oct 06, 2022 IST | Anjali Chauhan
एक ही दिन में शख्स हुआ करोड़पति  डेढ़ लाख के फूलदान को 74 करोड़ में बेचा
Advertisement

Chinese Vase: जब भी कभी किसी ऐतिहासिक सामान की निलामी होती है तो उसकी कीमत काफी ज्यादा होती है। लोग उस सामान को खरीदने के लिए मोटी रकम चुकाते हैं, क्योंकि वो बेहद कीमती होती है। मगर क्या हो अगर कोई सामान इतना कीमती ना हो और फिर भी वो करोड़ों में बिक जाएं, क्यों चौंक गए ना! मगर ये बिल्कुल सच है। ऐसा ही एक दिलचस्प मामला फ्रांस में देखने को मिला। जहां एक मामूली फूलदान की नीलामी 74 करोड़ रुपये में हुई।

Advertisement

Chinese Vase: डेढ़ लाख का फूलदान 74 करोड़ में बिका

Chinese Vase: एक ही दिन में शख्स हुआ करोड़पति, डेढ़ लाख के फूलदान को 74 करोड़ में बेचा
Chinese Vase:

दरअसल, घटना फ्रांस की राजधानी पेरिस की है। जहां Osenat Auction House की ओर से एक चाइनीज फूलदान की नीलामी की जा रही थी। चाइनीज फूलदान की कीमत $1,900 यानी करीब डेढ़ लाख रुपये से लगाई गई, लेकिन नीलामी के दौरान इसकी कीमत 74 करोड़ पहुंच गई। जिसे एक शख्स ने इसी कीमत पर खरीद लिया।

Chinese Vase: ड्रैगन और बादलों की नक्काशी बनी फूलदान पर

लंबी गर्दन वाली सुराही जैसे इस फूलदान में ड्रैगन और बादलों की नक्काशी की गई है। नीले और सफेद रंग का Tianqiuping फूलदान को गलती से वहां मौजूद लोगों ने ऐतिहासिक समझ लिया और इसकी कीमत वास्तविक दाम से करीब 4,000 गुना ज्यादा लग गई। बता दें कि फूलदान के मालिक की दादी कला की शौकीन थी। करीब 30 साल से उनके पास यह फूलदान था।

Advertisement

Chinese Vase: एक ही दिन में शख्स हुआ करोड़पति, डेढ़ लाख के फूलदान को 74 करोड़ में बेचा
Chinese Vase:

Chinese Vase: खरीदने वाला शख्स भी चीन का

निलामी के बाद आखिरकार यह फूलदान अपनी असल कीमत से हजारों गुना ऊंची कीमत पर बिक गया। दिलचस्प बात ये है कि इसे खरीदने वाला शख्स भी चीन का ही रहने वाला है। फूलदान की कीमत डेढ़ लाख रुपये से लगाई गई, लेकिन यह खिंचते-खिंचते 74 करोड़ तक पहुंच गई और इसी कीमत पर इस शख्स ने इसे खरीदा है। शायद उसको भी फूलदान की सच्चाई खरीदने के बाद ही पता चली होगी।

यह भी पढ़ें:

Tags :
×